ब्रेकिंग न्यूज
logo
add image
Blog single photo

यह है ईओडब्ल्यू पुलिस, मृतक कर्मचारी के नाम को भुना रहे हैं अब तक

पंकज पांचाल मो.9424515148

उज्जैन/
इंसान को पहचान से मिले काम की कमाई अल्प समय तक ही चलती है। परंतु काम से मिली पहचान जिंदगी भर की कमाई होती है। जिसका जीवित उदाहरण कल विधुत मण्डल के कार्यालय मे देखने को मिला।यहां ईओडब्ल्यू का एक कर्मचारी अपनें काम के लिए अपनें ही विभाग के एक ऐसे कर्मचारी के नाम से काम करावाता नजर आया जिसका स्वर्गवास हुए 15 दिन बीत चुके है।ऐसा नहीं है कि काम करनें वाले कर्मचारी को इसकी जानकारी नहीं थी। परंतु दिवंगत व्यक्ति के नाम से काम इसलिए किया। क्योंकि उन्होंने काम से पहचान बनाई थी।और यही अब तक काम आ रही है। परंतु यहां सवाल यह है कि कब तक मृतक कर्मचारी के नाम को भुनाते रहेंगे,यह कर्मचारी।
 क्या है मामला
 3 मई 2021 दोपहर 1 बजे ईओडबल्यु का दुपहिया वाहन लेकर एक जवान विद्युत वितरण कंपनी महाश्वेता नगर में पहुंचा। 7 नंबर खिड़की पर पहुंचकर ईओडबल्यु का जवान बोला मैं ईओडबल्यु कार्यालय महाश्वेता नगर से आया हूं। मुझे ईओडबल्यु कार्यालय का बिल निकाल कर दे दो। अंदर बैठे आपरेटर ने कहा बिल यहां नहीं निकलता है। तब पुलिस जवान बोला बर्वे जी ने यहीं का बोला है। अंदर बैठा आपरेटर अवाक रह गया और पुलिस जवान की फितरत पर बोला कि बर्वे जी अब कहां बोलते हैं। जवान ने माजरा भांप कर तुरंत पलटी मारी और कहा बर्वे जी कहते थे बिल यहां से ले लिया करो। तब आपरेटर ने बर्वे जी के प्रति सम्मान प्रकट करते हुए बिल निकाल कर दे दिया।
कौन थे बर्वे जी
ईओडब्ल्यू में पदस्थ रहे  पुलिस कर्मी  कैलाश बर्वे प्रारंभिक नौकरी से उज्जैन पुलिस में पदस्थ रहे। श्री बर्वे की मृत्यु 19 अप्रैल को हो गई है। श्री बर्वे का जनसंपर्क तगड़ा था, लिहाजा उनकी आकस्मिक मृत्यु की खबर पूरे उज्जैन में फैल गई। लेकिन अबोध ईओडबल्यु पुलिस को यह नहीं मालूम कि कैलाश बर्वे कितने लोकप्रिय जवान थे। आज ईओडबल्यु पुलिस ने अपना अबोध ज्ञान विद्युत वितरण कंपनी में प्रकट कर ही दिया।
परंतु शर्मनाक बात यह है कि मृतक श्री बर्वे के नाम को कब तक भुनाते रहेंगे,यह पुलिस कर्मी।

ताजा टिप्पणी

टिप्पणी करे

Top